Full form of RAM रैम क्या है ? इसका उपयोग क्या है?

मोबाइल हो या टेबलेट हो, कम्प्यूटर हो या लैपटॉप हो सबसे RAM एक बहुत ही ज़रूरी पार्ट होता है इन गैजेट्स में. इसके बिना कंप्यूटर या मोबाइल बिल्कुल डिब्बा हो सकता है.
अगर आप रैम का फुल फॉर्म (RAM FULL FORM), और इसके उपयोग को जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक पढें।

Full Form of RAM (रैम का फुल फॉर्म क्या होता है)

Civil exam में यह कम्प्यूटर से संबंधित परीक्षाओं में में यह सवाल अक्सर पूछा जाता है।
खासकर रेलवे जैसे परीक्षा में यह सवाल देखा जाता है कि What is the full form RAM या रैम का विस्तार रूप क्या है?
तो बहुत से लोग इसमें कंफ्यूज हो जाये है

रैम का फुल है : रैंडम एक्सेस मेमोरी

R : Random
A : Access
M : Memory

FULL FORM OF RAM

इसे सिस्टम मेमोरी (system memory) के नाम से भी जाना जाता है.

इसका उपयोग क्या है? यह क्यो जरूरी है?

रैम का उपयोग क्या है

रैम मोबाइल कंप्यूटर लैपटॉप में बहुत ही ज़रूरी होता है, यह किसी भी सॉफ्टवेयर को करंट यूज़ में रखता है जिसके कारण आप तेज़ी से काम कर पाते है।

आसान शब्दों में समझा जाये तो : हार्ड डिस्क बहुत ही धीमा होता है जब बिना रैम वाले कंप्यूटर में किसी भी सॉफ्टवेयर को चलाया जाए तो बहुत ही धीमा काम करेगा, जिसके कारण आपको एक छोटा सा काम करने में भी घंटो लग सकता है.

हार्ड डिस्क के बाद SSD यानी Solid State Drive आता है जो हार्ड से 10 गुना ज्यादा फ़ास्ट होता है, यानी जिस काम को आप हार्ड डिस्क में 1 घण्टे में खत्म करते है वो SSD से सिर्फ 15-20 मिनट में हो जाएगा।
रैम जो है वो वह SSD से भी फ़ास्ट होता है जिसके कारण यह किसी भी काम हो बहुत ही तेज़ी से करने में मदद करती है।

जब आप किसी सॉफ्टवेयर को जैसे फोटोशॉप, AutoCAD या कोई अन्य गेम्स या सॉफ्टवेयर को ओपन करते है तो वह रैम में उपयोग होने लगता है, जिसके कारण वह तेज़ी से खुल जाता है।

अगर कोई भी सॉफ्टवेयर रैम के बजाय हार्ड डिस्क में खुले तो 10-15 मिनट लग जायेगा सिर्फ सॉफ्टवेयर को ओपन होने में।

ये तो हुई कंप्यूटर और लैपटॉप की बात, बिल्कुल इसी तरह मोबाइल में भी होता है, काम रैम वाला मोबाइल ने अगर कोई बड़ा एप्प खोल दिया जाए तो एक से ज्यादा अप्प पर काम किया जाए तो हैंग करने लगता है और मोबाइल बिल्कुल जाम हो जाता है।

इसी लिए आजकल की मोबाइल कंपनियां रैम को 3GB – 4GB रैम दे रही है ताकि PUBG जैसे बड़े गेम को भी खेला जा सके।

कंप्यूटर और लैपटॉप में भी 8GB तक का रैम आसानी से मिल जाता है कारण यही है कि सॉफ्टवेयर आसानी से चल सके।

कंप्यूटर मोबाइल लैपटॉप टेबलेट इन सब मे जितना ज्यादा रैम होगा वह उतना ही फ़ास्ट होगा, मल्टीटास्किंग होगा और बड़ी सॉफ्टवेयर को भी आसानी से चला लेगा।

अब कई लोगो के मन मे सवाल होता होता है मोबाइल में और कंप्यूटर में मिनिमम कितना GB रैम होना चाहिए?

लैपटॉप में मिनिमम कितना GB रैम होना चाहिए?

आजकल के दौर को देखते हुए आपके कंप्यूटर या लैपटॉप में कम से कम 8 GB का रैम होना ज्यादा बेहतर होगा, क्योकि आज के समय मे तरह तरह उपयोगी सॉफ्टवेयर है जो 8gb में की डिमांड करती है, साथ ही 8GB तक के रैम में कोई भी सॉफ्टवेयर मक्खन की तरह से चलेगा तो लैपटॉप चलाने में मज़ा भी आएगा।

जिसका लैपटॉप या कंप्यूटर में ज्यादा कुछ काम नही होता वो 4 GB तक का भी उपयोग कर सकगे है, बाद में अपनी जरूरत के हिसाब से अपग्रेड भी कर सकते है।

उसी तरह मोबाइल में भी 4 GB तक का रैम ज़रूरी हो गया है PUBG जैसे गेम की दीवानगी को देखते हुए।
साथ ज्यादा रैम वाला मोबाइल आपको एक साथ कई काम करने की भी आज़ादी देती है।

उम्मीद है आपको रैम का पूरा नाम, रैम क्या है? रैम का उपयोग क्या है इन सभी सवालों का जवाब मिल गया होगा। इसी तरह की इंटरेस्टिंग जानकारी पाने के लिए हमारा फेसबुक ग्रुप ज़रूर जॉइन करें।

2 Comments

Leave a Comment